rishabh pant, suryakumar yadav, shreyas iyer

3 बल्लेबाज़ जो भविष्य में उम्दा ओपनर बन सकते हैं, एक में तो है सहवाग जैसा दम-खम

भारतीय टीम में सफल ओपनर की कमी नहीं रही है। हमने विश्व को सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली जैसे कई सलामी बल्लेबाज़ दिए हैं जिन्होंने अपनी महानता से पूरी दुनिया में लोहा मनवाया है। हाल ही में देखा गया है की टीम इंडिया ने कई ओपनर के साथ प्रयोग किया है। शायद सेलेक्टर्स विश्व कप में टीम के लिए एक बेहतरीन ओपनर की तलाश में हैं। चलिए आज हम जानेंगे की ऐसे कौन से पांच खिलाड़ी हैं जो भारतीय टीम से मैच ओपन करके टीम में और मज़बूती ला सकता है। कप्तान रोहित शर्मा के साथ लम्बी पारी खेलने के लिए यह ओपनर्स परफेक्ट हैं। वैसे उनके साथ तो सिर्फ एक ही खिलाड़ी खेल सकता है मगर हम ऐसे पांच खिलाड़ियों पर चर्चा करेंगे जो सकते हैं और टीम को मज़बूत सहयोग दे सकते हैं।

अगर टीम के ओपनर्स बढ़िया खेलते हैं तो दबाव मध्यक्रम के बल्लेबाज़ों पर नहीं जाता है और टीम अच्छा प्रदर्शन कर सकती है।

5 खतरनाक बल्लेबाज़ जो भविष्य में सफल ओपनर बन सकते हैं।

1. श्रेयस अय्यर:

श्रेयस अय्यर तो वैसे तीसरे नंबर पर तो कभी मध्यक्रम पर बल्लेबाज़ी करते हैं। मगर उन्हें हाल ही में वेस्टइंडीज़ के खिलाफ खेले गए मैच में ओपन करने का मौका मिला था वहां पर उन्होंने बेहद ही शानदार प्रदर्शन किया था। श्रेयस ने इस मैच में अर्धशतक भी लगाया था। ऐसे में हम यह कह सकते हैं की वह भविष्य में फिर से टीम इंडिया के लिए मैच ओपन करते हुए दिख सकते हैं।

2. सूर्यकुमार यादव:

सूर्यकुमार यादव ही वह खिलाड़ी हैं जो वीरेंदर सहवाग की तरह अग्रसर होकर खेलना पसंद करते हैं। यह आईपीएल में तो मुंबई इंडियंस के लिए ओपन ही करते रहते हैं, अब भारत के लिए भी इन्हें काफी मैचों में ओपन करते हुए देखा गया है।

भारत के लिए ओपन करते हुए इन्होने कई यादगार पारियां खेली हैं और हम यह कह सकते हैं की यह ओपनर के तौर पर प्रबल दावेदार हैं। एशिया कप में तो केएल राहुल भी टीम का हिस्सा हैं तो शायद वह ही रोहित शर्मा के साथ ओपन करते हुए दिखेंगे। अगर राहुल टीम का हिस्सा न होते तो इस बात की पूरी गारंटी थी कि सूर्य ही रोहित शर्मा के साथ ओपन करते।

3. ऋषभ पंत:

ऋषभ पंत भी सलामी बल्लेबाज़ बन सकते हैं। विकेटकीपिंग और बैटिंग के साथ ही साथ उनके अंदर यह गुण भी है। वैसे तो पंत एक मध्यक्रम के बल्लेबाज़ है मगर उनकी हालिया बल्लेबाज़ी को देख कर मैनेजमेंट उन्हें सलामी बल्लेबाज़ बनाकर उनके साथ भी प्रयोग कर सकता है।

आपको बता दें की 2013 से पहले रोहित शर्मा भी मिडिल आर्डर बल्लेबाज़ थे, लेकिन अब वह सलामी बल्लेबाज़ की भूमिका अच्छे से निभा रहे हैं।