Rohit Sharma, Babar Azam

इन तीन कारणों से बाबर आज़म पड़ेंगे भारतीय टीम पर भारी

जिस घड़ी का इंतज़ार था वह घडी फिर से वापस आगयी है। भारत और पाकिस्तान (IND vs PAK) के बीच का मैच बहुत जल्द 28 अगस्त को खेला जाना है। इस बार दोनों ही टीमें काफी कम समय के अंतराल में लड़ेंगी। पहले ये दोनों ही टीमें एशिया कप (Asia Cup 2022) में खेलेंगी इसके बाद अक्टूबर में शुरू हो रहे विश्व कप (World Cup 2022) में भी हम इन दोनों ही टीमों को खेलते देख सकते हैं। अगर परिस्थिति अनुकूल रहीं तो एशिया कप में ही हम इन दोनों टीमों को एक से ज्यादा बार खेलते देख सकते हैं।

बाबर आज़म (Babar Azam) एक खतरनाक खिलाड़ी हैं और बेहद ही शानदार फॉर्म में चल रहे हैं। पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कप्तान और सलामी बल्लेबाज़ बाबर आज़म की ऐसे ही नहीं भारतीय पूर्व कप्तान विराट कोहली से तुलना की जाता है। बाबर ने पिछले साल भारतीय टीम के साथ जो किया था वह फिर से दोहराया जा सकता है। विश्व कप 2021 में जब भारत और पाकिस्तान के बीच में मैच खेला गया था तब बाबर और रिज़वान नाबाद रहे थे और अकेले दम ही मैच जिताकर ले गए थे। बाबर ने उस मैच में 52 गेंदों में 68 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने 6 चौके और 2 छक्के भी लगाए थे। बाबर ने 131 की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाज़ी की थी। बाबर आज़म एक अच्छे बल्लेबाज़ ही नहीं एक शानदार कप्तान भी हैं। यह कूल रहना भी जानते हैं। बड़े-बड़े मैच आसानी से जीत लेते हैं इसके बाद भी इनके चेहरे में घमंड नाम की चीज़ नहीं आती है। यही तो खासियत है इस शानदार खिलाड़ी की।

आइये जानते हैं बाबर आज़म आखिर किस तरह भारतीय क्रिकेट टीम पर हावी पड़ सकते हैं।

शानदार फॉर्म मे हैं बाबर

बाबर आज़म शानदार फॉर्म में चल रहे हैं। सलामी बल्लेबाज़ बाबर आज़म पकिस्तान को स्थिरता देने में काफी फायदेमंद साबित होते हैं। इन्हें तेज़ गेंदबाज़ी को खेलना बेहद ही पसंद है साथ ही साथ ये स्पिन गेंदबाज़ी को भी भली-भाँती खेल सकते हैं। हाँ थोड़ा बहुत उन्हें लेग स्पिन के खिलाफ खेलने में परेशानी होती है। बाबर आज़म ने भारत के खिलाफ कुल 5 ओडीआई मैच ही खेले हैं और इस फॉर्मेट में उन्होंने मात्र 158 रन बनाये हैं। वहीँ T20 की बात करें तो बाबर ने सिर्फ एक ही T20 मैच भारत के खिलाफ खेला है।

कप्तानी में अव्वल

बाबर सिर्फ बल्लेबाज़ी में ही नहीं कप्तानी में भी माहिर हैं। वह खिलाड़ियों को, गेंदबाज़ो को अच्छी तरह से चलाना जानते हैं। बाबर सही टाइम पर सही फैसला ले सकते हैं। हम यह नहीं कह रहे की रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ऐसा नहीं कर सकते हैं।

टिक कर खेलने वाले खिलाड़ी

बाबर टिक कर खेलने वाले खिलाड़ियों में से एक हैं, इन्हें पता है की कब कैसे खेलना है। यह पहले मैदान को अच्छे से भांप लेते हैं, गेंदबाज़ों को भी समझ लेते हैं फिर उसी हिसाब से बल्ला घुमाते हैं। ये जल्दबाज़ी में गलत फैसला नहीं लेते हैं।