KKR Records

KKR के इन 5 रिकार्ड्स को न ही कोई तोड़ पाया है और न ही कोई तोड़ पायेगा

दो बार की चैंपियन और तीन बार की फाइनलिस्ट कोलकाता नाइट राइडर्स (Kolkata Knight Riders) एक ऐसी टीम है जो जीतने का ज़ज़्बा रखती है, “आखिरी दम तक आखिरी रन तक” का नारा जपने वाली यह टीम कभी भी हार नहीं मानती, आखिरी सांस तक लड़ना जानती है.

कोलकाता नाइट राइडर्स ने इस बात को पिछले मैच में साबित कर दिया जब रिंकू सिंह (Rinku Singh) जैसे जुझारू खिलाडियों ने आखिरी गेंद तक मैच को बांधे रखा और डट कर लखनऊ सुपरजाइंट्स से लड़ाई की.

शाहरुख़ खान (Shah Rukh Khan) की कोलकाता ने पहली बार 2008 में मैच खेला था, आईपीएल 2011 तक यह टीम फिसड्डी ही रही थी और अंक तालिका में हमेशा नीचे ही रहती थी. साल 2011 में जब टीम से गौतम गंभीर जुड़े उससे एक साल बाद से ही टीम के भाग्य खुलने चालू होगए.

साल 2012 में अपना पहला आईपीएल (Indian Premier League) खिताब जीता, इसके बाद साल 2014 में इस टीम ने अपना दूसरा आईपीएल खिताब जीता. फिर जबसे गौतम गंभीर KKR को छोड़कर गए हैं तब से मानो टीम के अभागे दिन चालू होगये हो.

साल 2021 में Eoin Morgan की KKR ने एक बार फिर से शानदार प्रदर्शन किया और टीम फाइनल तक पहुंची मगर तीसरी बार जीत का स्वाद चखने में नाकाम हो गयी.

श्रेयश अय्यर की KKR ने इस साल IPL 2022 में कुछ ख़ास प्रदर्शन नहीं किया है, टीम को लखनऊ के हांथों हार मिली और यह टीम टूर्नामेंट से बाहर हो गई.

चलिए अब बात करते हैं KKR के कुछ ऐसे रिकार्ड्स के बारे में जिन्हें तोड़ना बहुत ही कठिन है.

ब्रैंडन मैकुलम की आतिशबाज़ी

आपको बता दें की ब्रैंडन मैकुलम भले ही कुछ सालों से KKR की कोचिंग कर रहे हों, मगर यह KKR के आतिशबाज बल्लेबाज़ भी रह चुके हैं.

आईपीएल के पहले सीजन यानी साल 2008 में ब्रैंडन मैकुलम ने शानदार 158 रनो की पारी खेली थी और यह कारनामा उन्होने मात्र 73 गेंदें खेलकर किया था.

यह मुकाबला आईपीएल इतिहास का पहला मुकाबला था, इसे कोलकाता नाइट राइडर्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर के मध्य खेला जा रहा था. हालांकि मैकुलम का यह रिकॉर्ड बाद में क्रिस गेल ने तोड़ दिया था, मगर आज भी ब्रैंडन का यह रिकॉर्ड एक मैच में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाडियों की सूची में दूसरे स्थान पर है. और किसी दूसरे खिलाडी को इसके नज़दीक भी पहुंच पाना बहुत ही मुश्किल है.

फाइनल मुकाबले में सबसे बड़ा रन चेज़

फ़ाइनल मुकाबला खेलते हुए आज तक किसी भी दूसरी टीम ने 200 या उससे ज्यादा के रन चेज़ नहीं किये हैं, यह कारनामा 2014 में KKR ने कर दिखाया था. किंग्स एलेवेन पंजाब ने आईपीएल 2014 के फाइनल मुकाबले में KKR को 200 का टारगेट दिया था और KKR ने इसे सफलतापूर्वक पूरा करके ट्रॉफी पर अपना हक़ कमाया था.

इस मैच में मनीष पांडेय ने मैच जिताऊ 94 रनों की पारी खेली थी. पियूष चावला ने इनिंग को सफलकतापूर्वक ख़त्म की थी.

49 में विराट कोहली की टोली रफा-दफा

साल 2017 में यह मुकाबला रॉयल्स चैलेंजर्स बैंगलौर के साथ गौतम गंभीर की कप्तानी वाली टीम KKR खेल रही थी. RCB ने KKR को 131 रनों में आल -आउट कर दिया था, बदले में KKR ने उसे 49 रनों में ही समेट दिया. यह कारनामा KKR ने मात्र 9.4 ओवरों के भीतर ही कर दिया था. सबसे कम रनों में किसी भी टीम को समेटने का रिकॉर्ड आज भी KKR के पास ही है.

लगातार सबसे ज्यादा मैच जीतने वाली KKR

KKR एक ऐसी टीम है जिसके नाम एक ही सीजन में लगातार 10 मैच जीतने का रिकॉर्ड है. साल 2014 में KKR शुरू के सात मैचों में सिर्फ दो मैच ही जीत पाई थी, इसके बाद KKR ने इतिहास की महानतम वापसी की और लगातार 10 मैच जीतकर ट्रॉफी पर कब्ज़ा जमाया.

पॉवरप्ले में अब तक के सबसे ज्यादा रन

KKR से पहले रोबिन उथप्पा और गौतम गंभीर ओपनिंग करते थे, लेकिन एक्सपेरिमेंट करने के शौक़ीन गौतम गंभीर ने एक एक्सपेरिमेंट किया और आईपीएल 2017 में ओपनिंग के लिए हरफनमौला, KKR के जिगर के टुकड़े सुनील नरेन और क्रिस लिन को उतारा, प्रयोग सफल साबित हुआ इन दोनों ही खिलाडियों ने पहले ही 6 ओवर में 105 रनों की दमदार पारी खेली, यह अब तक का पॉवरप्ले में बना सबसे बड़ा स्कोर था.

इस मैच को RCB के खिलाफ खेला जा रहा था, आप को बता दें की KKR के ज्यादातर रिकॉर्ड RCB के खिलाफ ही आये हैं. इस मैच में क्रिस लिन ने 22 गेंदों में 50 रन और सुनील नरेन् ने 17 गेंदों में 54 रन बनाए थे.

हम आशा करते हैं की जिस तरह दिल्ली की कप्तानी छोड़कर आये गौतम गंभीर KKR के लिए अपनी कप्तानी के दुसरे साल ट्रॉफी जितवाई उसी तरह श्रेयश अय्यर भी KKR को अगले साल आईपीएल 2023 में ट्रॉफी जितवायें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.