dinesh karthik with wife

आईपीएल स्टार दिनेश कार्तिक की वायरल हो रही दुःख भरी कहानी पढ़कर आपको भी आजाएगा रोना।

ट्विटर में दिनेश कार्तिक की एक कहानी खूब वायरल हो रही है। दिनेश कार्तिक के जीवन में कई कष्ट आये हैं, कई कठिनाइयों का सामना करके दिनेश कार्तिक एक महान खिलाडी के रूप में नज़र आए हैं, ट्विटर पर अविनाश दास नामक एक व्यक्ति ने उनके जीवन से जुड़े कुछ तथ्य सामने लाकर रख दिए हैं, इस कहानी में कितनी सच्चाई है इस बात की पुष्टि नहीं की जा सकती है। यह ट्वीट तेज़ी से वायरल हो रहा है। इस पर अब तक 46.2 हज़ार लाइक्स आ चुके हैं और रिप्लाई की तो भरमार लगी हुई है।

अविनाश दास लिखते हैं की “समय सबका आता है। बस संयम की ज़रूरत होती है। साल 2004, दिनेश कार्तिक नामक युवा विकेटकीपर ने भारतीय क्रिकेट टीम ने अपना डेब्यू किया। उनका क्रिकेट जीवन परवान चढ़ रहा था और सन 2007 में अपनी बचपन की दोस्त निकिता वंजारा से शादी कर ली।

दिनेश और निकिता अपनी शादीशुदा जिंदगी में बड़े खुश थे। दिनेश रणजी ट्रॉफी में तमिलनाडु टीम की कप्तानी भी कर रहे थे। उनके खास दोस्त थे तमिलनाडु की टीम के ओपनर, जो बाद में भारतीय टीम का हिस्सा भी बने, मुरली विजय।

तो एक दिन निकिता की मुलाकात मुरली विजय से हुई। मुरली विजय को निकिता भा गयी। भोले भाले दिनेश कार्तिक इस बात को महसूस नहीं कर पाये। निकिता और मुरली के बीच नज़दीकियां बढ़ने लगीं और कुछ ही समय में दोनों का अफेयर शुरू हो गया। दोनों खुलकर मिलने लगे।

दिनेश कार्तिक के अलावा पूरी टीम जानती थी कि मुरली विजय अपने कप्तान की पत्नी निकिता के साथ इश्क लड़ा रहे हैं। फिर आया 2012, निकिता प्रेगनेंट हो गयी। लेकिन तभी उसने धमाका करते हुए का यह बच्चा मुरली विजय का है। दिनेश कार्तिक टूट गये। उन्होंने निकिता से तलाक ले लिया।

तलाक के अगले ही दिन निकिता ने मुरली विजय से शादी कर ली। तीन महीने बाद उन्हें बच्चा हो गया। दिनेश कार्तिक डिप्रेशन में चले गये। मानसिक तौर पर बीमार रहने लगे। अपनी पत्नी और दोस्त के धोखे को असानी से भुला नहीं पा रहे थे। वे शराबी हो गये। सुबह से लेकर शाम तक शराब पीने लगे।

वे देवदास बन गये। उन्हें भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया। रणजी ट्रॉफी में भी वे असफल हो रहे थे। तमिलनाडु की टीम की कप्तानी उनसे छीन ली गयी और मुरली विजय को नया कप्तान बना दिया गया। असफलता का दौर यहीं नहीं थमा। उन्हें आईपीएल से भी बाहर कर दिया गया।

उन्होंने जिम जाना भी छोड़ दिया। दिनेश इतना हताश हो गये कि आत्महत्या की बात करने लगे। तभी एक दिन उनके जिम ट्रेनर उनके घर पहुंचे। उन्होंने दिनेश को बुरे हाल में पाया। उन्होंने कार्तिक को पकड़ा और सीधा जिम लेकर आ गये।कार्तिक ने मना किया लेकिन ट्रेनर ने उनकी एक न सुनी।

उसी जिम में भारतीय स्क्वैश की महिला चैंपियन दीपिका पल्लीकल भी आती थी। जब उन्होंने दिनेश कार्तिक की स्थिति देखी तो ट्रेनर के साथ उन्होंने भी दिनेश कार्तिक की काउंसलिंग शुरू कर दी। ट्रेनर और दीपिका की मेहनत रंग लाने लगी। अब दिनेश कार्तिक सुधार की राह पर थे।

दूसरी ओर मुरली विजय का खेल डाउन लगातार डाउन जा रहा था। उन्हें भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया। उनके खराब फॉर्म को देखते हुए आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स ने भी उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया। दूसरी ओर दीपिका के सहयोग से दिनेश नेट पर जोरदार अभ्यास करने लगे थे।

इसका असर दिखने लगा और दिनेश कार्तिक घरेलू क्रिकेट में बड़े स्कोर बनाने लगे। शीघ्र ही उन्हें आईपीएल में भी चुन लिया गया और कोलकाता नाइट राइडर्स का कप्तान भी बना दिया गया। दीपिका पल्लीकल के वह बहुत नजदीक आ चुके थे। उन्होंने दीपिका से शादी कर ली।

क्रिकेट की उम्र अनुसार दिनेश अब बूढ़ा चुके थे। भारतीय क्रिकेट टीम में अब ऋषभ पंत का आगमन हो चुका था। कार्तिक समझ गये कि अब उनका कैरियर समाप्त है। उन्होंने क्रिकेट से रिटायर होने का फ़ैसला किया। इधर उनकी पत्नी प्रेग्नेंट हुई और उसने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया।

दीपिका का स्क्वाश खेलना भी रुक गया। दीपिका और दिनेश कार्तिक की इच्छा थी कि उनका चेन्नई के संभ्रांत इलाके पोएस गार्डन में एक बंगला हो। 2021 में चेन्नई के इसी इलाक़े में एक महलनुमा घर को खरीदने का ऑफ़र उनके पास आया। दिनेश ने उसे खरीदने का फ़ैसला कर लिया।

सब आश्चर्य कर रहे थे कि जब दीपिका और दिनेश दोनों ही क़रीब क़रीब खेल की दुनिया से बाहर हो चुके हैं, तब इतना महंगा सौदा वे कैसे पूरा करेंगे? तभी दिनेश को सूचना मिली की चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से महेंद्र सिंह धोनी विकेटकीपर के रूप में उनकी वापसी चाहते हैं।

’22 का आईपीएल का ऑक्शन शुरू हुआ। इस बार चेन्नई की जगह रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु ने उन्हें खरीद लिया। दीपिका ने भी खेलना शुरू किया। जुड़वा बच्चों के जन्म के महज छह महीने बाद उन्होंने स्क्वैश की वर्ल्ड चैंपियनशिप (ग्लास्गो) में मिक्स्ड डबल के साथ महिला युगल का खिताब जीत लिया।

’पत्नी की सफलता और नयी टीम से जुड़ाव ने दिनेश को भी हौसला दिया। ’22 के IPL में कमाल दिखाना शुरू कर दिया। एक के बाद एक मैच जिताऊ पारियां खेली। उन्हें इस IPL का सबसे बड़ा फिनिशर माने जाने लगा। एक मैच में तो उन्होंने 8 गेंदों पर तीन छक्कों की सहायता से 30 रन ठोंक डाले।

मैच समाप्ति पर जब दिनेश ड्रेसिंग रूम पहुंचे तो विराट कोहली ने उन्हें झुक कर सम्मान दिया। आज दिनेश कार्तिक भारतीय टी20 की टीम में आने के सबसे बड़े दावेदार बन गये हैं। 37 साल की उम्र में दिनेश कार्तिक इस वर्ष के आईपीएल के सबसे धमाकेदार खिलाड़ी हैं।

उनकी यह सफलता की कहानी सभी को जाननी चाहिए। नीचे गिरकर उठना किसे कहते हैं यह कार्तिक का जीवन बताता है। सदैव संयम बनाये रखिए। परिस्थितियों से लड़ते रहिए। आप अपनी मंज़िल तक अवश्य पहुंचेंगे।”

अविनाश दास के इस ट्वीट पर काफी लोग अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं, कुछ सहमत हैं तो कुछ असहमत, आपको यह कहानी कैसी लगी हमारे फेसबुक पोस्ट में कमेंट करके बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.